Accueil du site - Projets humanitaires - Apna Ghar - Anciens articles - Le 26 juin 2011, Ek Kadam est en route, petit à petit, vers son objectif…

Le 26 juin 2011

Parallèlement à la construction de la Gandhiji School à Puducherry, celle de la Apna Ghar de Kanpur a elle aussi bien démarré. Bien sûr les conditions de travail sont tout à fait différentes : l’accès est difficile, les matériaux arrivent mal, la main d’œuvre n’est pas nombreuse… mais le moral y est ! Voici un message de Mahesh et les premières photos, un peu timides, frileuses, mais porteuses d’espoir.

Ici aussi, il faut bien commencer par être chez soi, à l’abri, dans un bâtiment..., le projet éducatif qui en résultera n’en sera que plus fort.

रफ्ता रफ्ता बढ़ रहा है "एक कदम" अपनी मंजिल की ओर ....

Ek Kadam est en route, petit à petit, vers son objectif…

आशा कानपुर के एक कदम प्रोजेक्ट में हो रहे अपना घर हॉस्टल की निर्माण प्रक्रिया रफ़्ता-रफ़्ता ही सही मगर बढ़ रही है, एक कदम -एक कदम अपनी मंजिल की ओर...

Le projet Asha Ek Kadam continue de prendre forme : la construction de la nouvelle Apna Ghar est bien en route.

इस प्रवासी बच्चों के घर को बनाने में लगे है वो हाथ जिनके हाथों से मिट्टी सँवरती हुई ईट का रूप लेती है. आज वही ईट एक बार फिर इनके हाथों से सँवरती हुई घर का रूप ले रही है.

Une fois encore les briques sont produites et sortent des mains des ouvriers saisonniers, mais cette fois elles sont destinées à leurs propres enfants.

वर्तमान में करीब १० परिवार यंहा पर रहकर निर्माण कार्य में लगे हुए है. नमे से ज्यादातर परिवार अपना घर में रह रहे बच्चों के परिवार के लोग है. उन्हें ख़ुशी है की ये घर उनके बच्चों के लिए बन रहा है.

En réalité une dizaine de familles ont commencé le travail et vivent sur le chantier. La plupart sont les familles des jeunes de Apna Ghar, heureuses de travailler pour le futur de leurs enfants.

स्टाक रूम, कार्यालय कक्ष, जरनेटर रूम और पानी की बोरिंग का कार्य पूरा हो चुका है. ये अस्थाई निर्माण है. यंहा पर काम कर रहे लोगों के लिए बाथरूम, टायलेट और पानी के लिए टंकी का निर्माण शुरू हो गया है. हॉस्टल का ले-आउट का काम हो रहा है उम्मीद है एक दो दिन में ये काम पूरा हो जाने के बाद नींव खुदाई का काम शुरू हो जायेगा.

Une pièce pour ranger le matériel est construite ainsi qu’une autre qui sera occupée par les ouvriers pendant les travaux. Le puits est creusé pour l’eau potable et un réservoir est installé, de même qu’une toilette. Maintenant c’est le marquage de la première partie qui est à l’oeuvre et qui devrait être terminé d’ici quelques jours. Ensuite les fondations commenceront.

बारिस होने के कारण बिल्डिंग मटेरियल गिराने में दिक्कत का सामना हो रहे है रास्ता सही न होने के कारण और नदी में बढ़ आने के कारण बालू आने में दिक्कत हो रही है. ऐसा लगता है बारिस में काम थोड़ा धीमा होगा तमाम विपरीत परिस्थितियों के बावजूद कोशिश है की निर्माण कार्य अपने नियत समय पर समाप्त हो जाय. इस समय जरुरत है आप सभी की मदद की इस निर्माण कार्य को पूरा कराने में, प्रवासी बच्चों के सपनो के इस घर को सजाने में. हम कराते रहेंगे हमेशा आपको यूं ही अवगत इस निर्माण कार्य की. .....

Bien sûr on suspecte déjà la difficulté d’apporter les matériaux et principalement le sable, avec la mousson qui approche, le chemin d’accès fragile et la rivière voisine qui va se gonfler... Il est donc probable qu’à cause de la pluie les travaux seront ralentis mais on fera tout ce qui est possible pour que cette première partie soit terminée à temps. Cette fois c’est vraiment important, on aura besoin de l’aide de tous pour réaliser le rêve tant attendu des enfants des briqueteries. De notre côté on continuera quelles que soient les difficultés et on vous tiendra informés de l’avancement.

शुभकामनाओं के साथ अपना घर परिवार

Avec nos meilleurs vœux.

Mahesh et la Apna Ghar parivaar (famille)